Home » Shahdol Latest Hindi News » शहडोल संसदीय क्षेत्र के सांसद श्री दलपत सिंह परस्ते अब नहीं रहे

शहडोल संसदीय क्षेत्र के सांसद श्री दलपत सिंह परस्ते अब नहीं रहे

शहडोल। सांसद दलपत सिंह परस्ते का बुधवार शाम गुड़गांव की मेदांता अस्पताल में निधन हो गया। ब्रेन हेमरेज की शिकायत के बाद उन्हें मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। श्री परस्ते 66 वर्ष के थे। विदित हो कि 27 मई को संघ के कार्यक्रम के दौरान श्री परस्ते की तबियत बिगड़ गई थी। उसी रात शहडोल के एक निजी अस्पताल में सांसद श्री परस्ते का ऑपरेशन किया गया था। उसके बाद उन्हें एयर एम्बुलेंस द्वारा दूसरे दिन उमरिया हवाई पट्टी से मेदांता अस्तपाल गुड़गांव ले जाया गया था। उपचार के दौरान बुधवार शाम पांच बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।
जानकारी के अनुसार दलपत सिंह परस्ते का जन्म 30 मई 1950 को हुआ था और उन्होंने अंतिम सांस 1 जून को ली। श्री परस्ते के निधन का समाचार आते ही क्षेत्र में शोक व्याप्त है।
तीन बार शहडोल संसदीय क्षेत्र की पैदल यात्रा की सांसद दलपत सिंह परस्ते जय प्रकाश नारायण संघर्ष समिति में शामिल होकर राजनीति की शुरुआत की। गुजरात और बिहार आंदोलन में ये जयप्रकाश नारायण के साथ रहे। इसके बाद ये समाजवादी युवजन सभा के सचिव बने। लगातार संषर्घ समिति से जुड़े रहे।
पांचवी बार पहुंचे थे लोकसभा
श्री परस्ते पहली बार 1977 में जनता पार्टी से 6वीं लोकसभा में शहडोल के सांसद चुने गए। इसके बाद 1989 में 9वीं, 1999 में 13वीं, 2004 में 14वीं और 2014 में 16वीं लोकसभा के सदस्य रहे। इसी दौरान वे लोकसभा की अनेक समितियों के सदस्य भी रहे।
जनता पार्टी से राजनीतिक सफर की शुरुआत
श्री परस्ते ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत जनता पार्टी से की थी वे पार्टी की प्रदेश इकाई के संयुक्त सचिव रहे। इसके बाद वे लोकदल की राष्ट्रीय कार्यकारणी के सदस्य और प्रदेश सचिव रहे। जनता दल में राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य के अलावा श्री परस्ते प्रदेश उपाध्यक्ष भी रहे। 1999 में श्री परस्ते भाजपा में शामिल हुए।

dalpat singh paraste
dalpat singh paraste
देश के प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी जी स्वर्गीय शहडोल सांसद दलपत सिंह परस्ते जी श्रंद्धांजलि सुमन अर्पित करते हुए भगवान से प्रार्थना है ऎसे पुण्य आत्मा को शांति प्रदान करे ।

Check Also

शहडोल शहर को मिली नए मयखाने (पुराना बस स्टैंड) की सौगात

#ब्रेकिंग_न्यूज़ किसी बड़े अप्रिय घटना के इंतजार में – शहडोल जोकि शहर के हृदय स्थल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × 1 =